पद्मा एकादशी Day celebrate 9 September 2019 This Year

पद्मा एकादशी Day celebrate 9 September 2019 This Year

पद्मा एकादशी Day celebrate 9 September 2019

पद्मा एकादशी Day celebrate 9 September 2019 This Year

अन्य नाम परिवर्तनी एकादशी, वर्तमान एकादशी, जयंती एकादशी
अनुयायी हिंदू
उद्देश्य इस एकादशी को भगवान के वामन अवतार का व्रत व पूजन किया जाता है। इस व्रत को करने से सभी प्रकार के अभीष्ट सिद्ध होते हैं।
तिथि भाद्रपद शुक्ल पक्ष एकादशी
अनुष्ठान ताँबा, चाँदी, चावल और दही का दान करना उचित है। रात्रि को जागरण अवश्य करना चाहिए।
धार्मिक मान्यता इस एकादशी को भगवान शयन करते हुए करवट लेते हैं, इसलिए तीनों लोकों के स्वामी भगवान विष्णु का उस दिन पूजन करना चाहिए।
अन्य जानकारी जो विधिपूर्वक इस एकादशी का व्रत करते हैं, वे सब पापों से मुक्त होकर स्वर्ग में जाकर चंद्रमा के समान प्रकाशित होते हैं और यश पाते हैं। जो पापनाशक इस कथा को पढ़ते या सुनते हैं, उनको हज़ार अश्वमेध यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

पद्मा एकादशी Day celebrate 9 September 2019

 

पद्मा एकादशी या ‘परिवर्तनी एकादशी’ भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को कहा जाता है। यह लक्ष्मी का परम आह्लादकारी व्रत है। इस दिन आषाढ़ मास से शेष शैय्या पर निद्रामग्न भगवान विष्णु शयन करते हुए करवट बदलते हैं। इस एकादशी को ‘वर्तमान एकादशी’ भी कहते हैं। इस एकादशी को भगवान के वामन अवतार का व्रत व पूजन किया जाता है। इस व्रत को करने से सभी प्रकार के अभीष्ट सिद्ध होते हैं। भगवान विष्णु के बौने रूप वामन अवतार की यह पूजा वाजपेय यज्ञ के समान फल देने वाली समस्त पापों को नष्ट करने वाली है। इस दिन लक्ष्मी का पूजन करना श्रेष्ठ है, क्योंकि देवताओं ने अपना राज्य को पुनः पाने के लिए महालक्ष्मी का ही पूजन किया था। इस दिन व्रती को चाहिए कि प्रातः स्नान आदि से निवृत होकर भगवान वामनजी की प्रतिमा स्थापित करके मत्स्य, कूर्म, वाराह, आदि नामों का उच्चारण करते हुए गंध, पुष्प आदि से विधिपूर्वक पूजन करें। फिर दिनभर उपवास रखें और रात्रि में जागरण करें। दूसरे दिन पुनः पूजन करें तथा ब्राह्मण को भोजन कराएँ व दान दें। तत्पश्चात् स्वयं भोजन करके व्रत समाप्त करें।

 

व्रत कथा
  • युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवान! भाद्रपद शुक्ल एकादशी का क्या नाम है? इसकी विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके कहिए। तब भगवान श्रीकृष्ण कहने लगे कि इस पुण्य, स्वर्ग और मोक्ष को देने वाली तथा सब पापों का नाश करने वाली, उत्तम वामन एकादशी का माहात्म्य मैं तुमसे कहता हूँ तुम ध्यानपूर्वक सुनो।

 

व्रत विधि
  • इस एकादशी के दिन जो व्यक्ति व्रत करता है, उसे भूमि दान करने और गाय का दान करने के पश्चात् मिलने वाले पुण्य फलों से अधिक शुभ फलों की प्राप्ति होती है। इस व्रत में धूप, दीप, नेवैद्य और पुष्प आदि से पूजा करने का विधि-विधान है। एक तिथि के व्रत में सात कुम्भ स्थापित किये जाते है। सातों कुम्भों में सात प्रकार के अलग-अलग धान्य भरे जाते है। भरे जाने वाले धान्यों के नाम इस प्रकार हैं- गेहूँ, उडद, मूंग, चना, जौ, चावल और मसूर। एकादशी तिथि से पूर्व की तिथि अर्थात् दशमी तिथि के दिन इनमें से किसी धान्य का सेवन नहीं करना चाहिए।

Read More : साक्षरता दिवस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *