Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version (Soft Rock) Sachet-Parampara Movie Kabir Singh

Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version (Soft Rock) Sachet-Parampara Movie Kabir Singh
Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version
Source: youtube

Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version (Soft Rock) Sachet-Parampara Movie Kabir Singh Presenting acoustics version in the voice of Dhvani Bhanushali of one of the most popular hindi songs of 2019 Bekhayali” from the movie “Kabir Singh”.

Song: Bekhayali Acoustic
Singer: Dhvani Bhanushali
Music: Sachet-Parampara
Lyrics: Irshad Kamil
Mixed and Mastered by Aftab Khan
Director: Shakti Hasija
DOP: Ravi Kumar
Art Director / Production designer: Amrendra Srivastava
EP: Kunjan Hasija
Production Managers: Nidhi Oza, Ronnit Girdhar
AD: Jeetu Rall, Kripamoy Das
DOP Assistant: Kuldeep Singh
Post Production at Industrywalas
Line Producer: Inder Bariya
Editor: Jeetu Rall, Rahul Gupta
Assistant Editor: Kripamoy Das
Colourist: Shubham Kajrolkar
Online Artist: Shakti Hasija
Costume Stylist: Josie Paris Renthlei
Makeup: Billi
Piano Artist: Anoushka Sivasankar
Electric guitar Artist: Priyanka Biswakarma
Acoustic guitar: Swati Gopal Marwal

Bekhayali Acoustic | Dhvani Bhanushali

♫ORIGINAL CREDITS ♫
Singer – Sachet Tandon
Music Director – Sachet-Parampara
Lyrics – Irshad Kamil

Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version (Soft Rock) Sachet-Parampara Movie Kabir Singh

Bekhayali female Dhvani Bhanushali Version

Lyrics
बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
“क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी?” ये सवाल आए
तेरी नज़दीकियों की ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फ़ासले भी तेरे बेमिसाल आए

मैं जो तुमसे दूर हूँ, क्यूँ दूर मैं रहूँ?
तेरा गुरुर हूँ
आ तू फ़ासला मिटा, तू ख्वाब सा मिला
क्यूँ ख्वाब तोड़ दूँ?

बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
“क्यूँ जुदाई दे गया तू?” ये सवाल आए
थोड़ा सा मैं खफ़ा हो गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी बेवजह ही मलाल आए

है ये तड़पन, है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे?
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये खुदा मेरे?

ये जो लोग-बाग हैं, जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूँ?
ये नाकाम प्यार में, खुश हैं ये हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ?

रातें देंगी बता, नीदों में तेरी ही बात है
भूलूँ कैसे तुझे? तू तो ख्यालों में साथ है

बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
“क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी?” ये सवाल आए

नज़र के आगे हर एक मंज़र रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे ज़हर की तरह उतर रहा है
नज़र के आगे हर एक मंज़र रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे ज़हर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने, आज़मा ले, रूठता नहीं
फ़ासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफ़ा और ना मैं हूँ बेवफ़ा
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं

 

Artist: Sachet Tandon
Movie: Kabir Singh
Released: 2019
Genre: Alternative/Indie
Other recordings of this song
Bekhayali
Arijit Singh · 2019

Bekhayali (From “Kabir Singh”) by Sachet Tandon on Spotify

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *