Ganga Saptami – गंगा सप्तमी 2020

Ganga Saptami – गंगा सप्तमी 2020

Ganga Saptami – गंगा सप्तमी 2020 to test your friend’s knowledge

ganga saptami 2020
image credit to images.google.com

गंगा सप्तमी वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को कहा जाता है। पौराणिक धर्म ग्रंथों और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार वैशाख मास की इस तिथि को ही माँ गंगा स्वर्ग लोक से भगवान शिव की जटाओं में पहुँची थीं। इसलिए इस दिन को ‘गंगा सप्तमी’ के रूप में मनाया जाता है। कहीं-कहीं पर इस तिथि को ‘गंगा जन्मोत्सव’ के नाम से भी पुकारा जाता है। गंगा को हिन्दू मान्यताओं में बहुत ही सम्मानित स्थान दिया गया है।

 

पौराणिक उल्लेख
पौराणिक धर्म ग्रंथों के अनुसार जब कपिल मुनि के श्राप से सूर्यवंशी राजा सगर के 60 हज़ार पुत्र जल कर भस्म हो गए, तब उनके उद्धार के लिए राजा सगर के वंशज भगीरथ ने घोर तपस्या की। वे अपनी कठिन तपस्त्या से माँ गंगा को प्रसन्न करने में सफल रहे और उन्हें धरती पर लेकर आए। गंगा के स्पर्श से ही सगर के 60 हज़ार पुत्रों का उद्धार हो सका। गंगा को ‘मोक्षदायिनी’ भी कहा जाता है। विभिन्न अवसरों पर गंगा नदी के तट पर मेले और गंगा स्नान आदि के आयोजन होते हैं। इनमें ‘कुंभ पर्व’, ‘गंगा दशहरा’, ‘पूर्णिमा’, ‘व्यास पूर्णिमा’, ‘कार्तिक पूर्णिमा’, ‘माघी पूर्णिमा’, ‘मकर संक्रांति’ व ‘गंगा सप्तमी’ आदि प्रमुख हैं।

 

अन्य नाम गंगा जन्मोत्सव

अनुयायी हिंदू

तिथि वैशाख शुक्ल पक्ष सप्तमी

धार्मिक मान्यता हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार इस तिथि को ही माँ गंगा स्वर्गलोक से भगवान शिव की जटाओं में पहुँची थीं। इसलिए इस दिन को ‘गंगा सप्तमी’ के रूप में मनाया जाता है।

 

Read more: Irrfan Khan Quotes In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *