नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती: Expectations vs. Reality

नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती: Expectations vs. Reality

नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती: Expectations vs. Reality

नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती…

नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती…

जान तभी जाती है जबकि तैरना नहीं आता…

परिस्थितियाँ कभी समस्या नहीं बनती….

समस्या तभी बनती है

जब हमें परिस्थितियों से निपटना नहीं आता…

Read More also like : one person asked swami vivekanand ji what is worse than losing everything

One thought on “नदी में गिरने से किसी की जान नहीं जाती: Expectations vs. Reality

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *