प्रदोष व्रत – Pradosh Vrat 2020

प्रदोष व्रत – Pradosh Vrat 2020

Some WhatsApp Share Friends For प्रदोष व्रत to test your friend’s Pradosh Vrat 2020 knowledge

Pradosh Vrat 2020
image credit to images.google.com

प्रदोष व्रत अति मंगलकारी और शिव कृपा प्रदान करने वाला है। यह व्रत प्रत्येक महीने के कृष्ण व शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को रखा जाता है, इसलिए इसे वार के अनुसार पूजन करने का विधान शास्त्र सम्मत माना गया है। प्रत्येक वार के प्रदोष व्रत की पूजन विधि अलग-अलग मानी गई है। व्रती ब्रह्मा मुहूर्त में उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान का ध्यान करते हुए व्रत आरंभ करते हैं। इस व्रत के मुख्य देवता शिव माने गए हैं। उनके साथ पार्वती जी की भी पूजा की जाती है। इस दिन निराहार रहकर सायंकाल स्नान करने के बाद सफ़ेद वस्त्रों में संध्या आदि करके शिव का पूजन किया जाता है। प्रदोष व्रत को करने से हर प्रकार का दोष मिट जाता है।

 

अनुयायी:  हिंदू

उद्देश्य: इस दिन निराहार रहकर सायंकाल स्नान करने के बाद सफ़ेद वस्त्रों में संध्या आदि करके शिव का पूजन किया जाता है। प्रदोष व्रत को करने से हर प्रकार का दोष मिट जाता है।

तिथि: प्रत्येक महीने के कृष्ण व शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी

अनुष्ठान प्रात: काल स्नान करके भगवान शिव की बेलपत्र, गंगाजल, अक्षत, धूप, दीप सहित पूजा करें। संध्या काल में

पुन: स्नान करके इसी प्रकार से शिव जी की पूजा करना चाहिए।

Read more: 15 Majedar Paheliyan Question

One thought on “प्रदोष व्रत – Pradosh Vrat 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *